आप शादीशुदा है या नहीं फर्क नहीं पड़ता, सेक्स के बारे में सभी को पता होनी चाहिए ये 5 बातें

किशोरावस्था एक ऐसी उम्र है, जब बॉडी में बहुत से बदलाव देखने को मिलते हैं। इन बदलावों को देखकर जहन में बहुत से सवाल उठने लगते हैं। मगर अधूरी जानकारी या जानकारी न होना टीनएजर्स के लिए परेशानी का सबब बन सकती है। आइए जानते हैं कि इस उम्र में किन बातों की जानकारी होनी ज़रूरी है।

Sex Education in Hindi by StarsMama.com


अडोलेसेंस यानि किशोरावस्था, जिसमें बढ़ते बच्चों के शरीर में कई प्रकार के परिवर्तन आने लगते हैं। लड़कियों में होने वाली पीरियड्स (Period cycle) की शुरूआत और शारीरिक बदलाव उनके मन में कई प्रकार के सवाल पैदा करते हैं। ऐसे में स्कूल में सेक्स एजुकेशन (Sex education in school) के माध्यम से हम उनके जहन में उठ रहे सवालों को शांत करने का काम करते हैं।


यौन संचारित रोग, गर्भावस्था (Pregnancy) और एचआईवी (HIV) के बारे में जानकारी देना ज़रूरी है। इसके अलावा किशोरावस्था में कदम रख चुकी गर्ल्स को पीरियड्स का कारण और उससे जुड़ी अहम् जानकारी देना ज़रूरी है। आइए जानते है सेक्स एजुकेशन से जुड़ी कौन सी बातें हैं, जो वयस्कों को बताना ज़रूरी है।

Sex Education in Hindi by StarsMama.com


सेक्स एजुकेशन क्या है

सेक्स एजुकेशन एक प्रकार की टीचिंग और लर्निंग है, जो युवाओं को लिव इन रिलेशनशिप्स, फिज़िकल और मेंटल हेल्थ के बारे में बताते हैं। युवाओं को इस बात की जानकारी दी जाती है किआपसी सहमति से किया गया सेक्स आपको खुशी देता है। साथ ही इससे शरीर में कई हार्मोनल चेंजिस भी होते हैं। इसके अलावा सेफ सेक्स के बारे कमें जानकारी देना भी बहुत ज़रूरी है।

सबसे पहले इस टॉपिक पर फील फ्री होकर पेरेंटस को अपने बच्चों से डिस्कशन करनी चाहिए। अगर सेक्स के बारे में माता पिता बच्चों से खुलकर बात करेंगे, तो ज़ाहिर है, छेड़छाड़ की घटनाओं में अपने आप कमी आने लगेगी। बच्चे माता पिता से कुछ भी छुपाने की ज़रूरत महसूस नहीं करेंगे। वे अच्छी और हेल्दी सेक्सुअल लाइफ जी पाएंगे।

सेक्स नॉलेज ज़रूरी

नॉलेज का होना बेहद ज़रूरी है। इसके लिए आपके अंदर जब तक फिजीकल और मेंटल मैच्योरिटी नहीं आती है। तब तक आप सेक्स करने के लिए तैयार नहीं हो सकते हैं। अगर आप इसके सभी आस्पेक्टस को जानते हैं और पूरी तरह से समझते हैं। फिर आप अपने पार्टनर की सहमति से सेक्स कर सकते हैं।

हाइमन नहीं है वर्जिनिटी का सबूत

एक पतले पर्दे के समान झिल्ली को हाइमन कहा जाता है, जो अक्सर प्रैगनेंसी के दौरान टूट जाती है और उससे ब्लीडिंग होने लगती है। ये किसी भी तरह से डर का विषय नहीं। इसके अलावा लंबे समय तक दौड़ने, ज्यादा खेलने, तेज साइकिल चलाने और कई बार जिम में वर्कआउट करने से भी हाइमन का पर्दा हट जाता है। योनि के ठीक उपर होने वाली ये झिल्ली किसी प्रकार के बैक्टीरियल इंफेक्शन से वजाइना को प्रोटेक्ट करने का काम करती है। इस बारे में बच्चों को जानकारी देना बेहद ज़रूरी है। कई बार सेक्स को लेकर अनेक प्रकार के मिथक बच्चों को गलत रास्ते पर ले जाते है।

प्रेग्नेंसी से जुड़े मिथक

एक दूसरे को छूना, किसिंग और ओरल सेक्स से प्रेग्नेंसी की संभावना रहती है। इस प्रकार के मिथकों को दूर करके बच्चों को हेल्दी सेक्सुअल रिलेशन बनाने की जानकारी देनी चाहिए। उन्हें बताना चाहिए कि महज एक दूसरे के करीब आने से नहीं बल्कि शारीरिक सबंध बनाने से कोई लड़की गर्भावस्था में कदम रखती है।

Pregnancy Tips and tricks in hindi by StarsMama.com


सेक्सुअल ट्रांसमिटिड डिज़ीज़ की जानकारी

एचआईवी से दूर रहने के लिए सेफ सेक्स बेहद ज़रूरी है। अलग अलग लोगों से सेक्स करने के कारण न केवल वो व्यक्ति सेक्सुअल ट्रांसमिटिड डिज़ीज का शिकार हो जाता है। इसके अलावा उससे सेक्स करने वाले अन्य लोग भी इस बीमारी की चपेट में आ जाते हैं। ऐसे में सैक्स के दौरान कण्डोम का इस्तेमाल ज़रूर करें। कण्डोम एक ऐसा सुरक्षा कवच है, जो आपको सेक्सुअल ट्रांसमिटिड डिज़ीज़ से बचाने का काम करता है।


Comments

Popular posts from this blog

हेयर फॉल कंट्रोल नहीं हो रहा, तो इसके लिए जिम्मेदार हो सकते हैं ये 5 गंभीर कारण, एक्सपर्ट से जानें प्रीवेंशन टिप्स